जे0बी0 जोन के चंचल एरिया का एरिया कमांडर हीरा यादव का आत्म समर्पण

गिरिडीह: वामपंथी उग्रवादियों के प्रत्यार्पण एवं पुनर्वास हेतु झारखण्ड सरकार गृह विभाग के ज्ञापांक- 12 विविध (31) - 20/2006 694 दिनांक- 18.02.2009 द्वारा निर्गत प्रत्यार्पण नीति तथा पुलिस मुख्यालय, झारखण्ड, राँची द्वारा चलाये गये कार्यक्रम ‘‘ नई दिशा‘‘ के आलोक में गिरिडीह पुलिस एवं सी0आर0पी0एफ0 द्वारा लगातार व्यापक प्रचार-प्रसार कराते हुए वामपंथी उग्रवादियों को समाज की मुख्य धारा में लाने का प्रयास किया जा रहा है और उक्त किये जा रहे प्रयास में गिरिडीह पुलिस एवं 22 वीं वाहिनी सी0आर0पी0एफ0 को पुनः सफलता हासिल हुई है । गिरिडीह पुलिस के प्रयास एवं झारखण्ड सरकार द्वारा जारी किये गये नीतियों से प्रभावित होकर आज दिनांक- 03.04.2012 को जे0बी0 जोन के चंचल एरिया का एरिया कमांडर सक्रिय क्रियावादी हीरा यादव, पे0- बच्चू यादव, सा0- थानसिंहडीह , थाना- लोकायनयनपुर, जिला- गिरिडीह .303 बोर के 01 पुलिस राईफल, 10 चक्र कारतूस एवं 01 विन्डोलिया के साथ श्री मुरारी लाल मीणा, भा.पु.से., पुलिस महानिरीक्षक, उ0छो0प्रक्षेत्र, बोकारो, एवं श्री अमोल विनूकांत होमकर, भा.पु.से., पुलिस अधीक्षक, गिरिडीह के समक्ष पुलिस कार्यालय, गिरिडीह के प्रांगण में आत्म समर्पण किये हैं । उल्लेखनीय है कि आपरेशन ‘‘ नई दिशा ‘‘ के तहत किये गये प्रयास के फलस्वरूप पूर्व में भी जे0बी0जोन के 03 सक्रिय क्रियावादी गिरिडीह पुलिस के समक्ष आग्नेयास्त्र एवं कारतूस तथा लेवी के रूप में वसूली गयी एक बहुत बड़ी राशि के साथ आत्म समर्पण कर चुके हैं तथा यह चैथी सफलता है ।

हीरा यादव गिरिडीह जिला के निम्नलिखित कांडों में नामजद अभियुक्त है-

1. बेंगाबाद थाना कांड स0- 15/12 दि0 19.02.12 धारा 147/148 149/379/427/435/448/365 भा.द.वि.एवं 17 सी.एल.ए.एक्ट

2. देवरी थाना कांड स0-31/12 दि0 24.02.12 धारा 17 सी.एल.ए.एक्ट एवं 3/4 वि0पदा0अधि0

इसके अतिरिक्त भी कई अन्य नक्सली वारदातों में इसके शामिल रहने की सूचना है जिसके संबंध में अभिलेख एकत्रित किये जा रहे हैं।

समर्पण करने वाले सक्रिय क्रियावादी एरिया कमांडर हीरा यादव को सरकार द्वारा दी जाने वाली सुविधाए:- झारखण्ड सरकार द्वारा घोषित पुनर्वास पैकेज के तहत 7.1 में पुनर्वास अनुदान के रूप में 2,50,000/-रू0 दिया जायगा जिसमें से 50,000/-रू0 नगद राशि तत्काल दी जा रही है तथा शेष राशि 2,00,000/-रू0 दो बराबर किस्तों में नियमित अंतराल पर भुगतान की जायगी ।

1. पुनर्वास समिति द्वारा रू0 3,000/- प्रतिमाह की वृत्ति पर एक वर्ष तक के व्यवसायिक प्रशिक्षण की व्यवस्था की जायेगी । विशेष परिस्थिति में व्यवसायिक प्रशिक्षण की अवधि एक अतिरिक्त वर्ष तक के लिए विस्तारित की जा सकेगी ।

2. अधिकतम चार डिसमिल जमीन गृह निर्माण हेतु आवंटित किया जायगा ।

3. प्रत्यार्पण करने वाले उग्रवादी को एक आवास निर्माण हेतु अधिकतम रू0 50,000/- (पचास हजार) की राशि दी जायेगी ।

4. राज्यान्तर्गत सरकारी चिकित्सा संस्थानों में उग्रवादी एवं उसके परिवार की निःशुल्क चिकित्सा की व्यवस्था की जायेगी ।

5. सरकारी विद्यालयों में उग्रवादी स्वयं एवं उसके पुत्र तथा पुत्रियों को मैट्रिक तक निःशुल्क शिक्षा की व्यवस्था की जायेगी ।

6. मुख्यमंत्री कन्यादान योजनान्तर्गत महिला उग्रवादी एवं उग्रवादियों की पुत्रियों के वैवाहिक कार्यक्रम हेतु अनुदान राशि दिया जायेगा ।

7. यदि प्रत्यार्पण करने वाले उग्रवादी के सिर पर उसके मारे जाने या गिरफ्तार होने पर कोई सरकारी इनाम घोषित हो तो समर्पण के उपरांत घोषित इनाम की राशि उन्हें ही प्रदान कर दी जायेगी । संगठन के विभिन्न पदाधिकारियों के समर्पण करने पर घोषित इनाम की परिशिष्ट- 1 के अनुरूप भुगतान किया जायेगा ।

8. समर्पण के उपरांत यदि समर्पणकत्र्ता को उग्रवादियों द्वारा मारा जाता है तो उसके परिवार को सरकारी संकल्प सं0- 423 दिनांक- 16.02.06 तथा 369 दिनांक- 24.01.08 के आलोक में लाभों का भुगतान किया जायेगा , यथा- रू0 1,00,000/- (एक लाख) का अनुदान एवं उसके एक सुयोग्य आश्रित को सरकारी नौकरी दी जायेगी, भले ही मृतक का पत्यार्पण के पूर्व अपराधिक इतिहास रहा हो ।

9. राष्ट्रीय/सहकारी बैंक से स्वनियोजन हेतु रू0 2,00,000/- (दो लाख) तक के लिए ऋण प्राप्ति में सहायता देगी । ऋण से प्राप्त राशि पर देय ब्याज के विरूद्ध सरकार 50 प्रतिशत की सीमा तक (अधिकतम रू0 50,000/-) की राशि प्रतिपूर्ति करेगी । अथवा शारीरिक मापदण्डों को पूरा करने वाले प्रत्यार्पित उग्रवादियों को पुलिस/गृह रक्षक/विशेष पुलिस अधिकारी के रूप में नियुक्ति पर विचार किया जा सकता है । महानिदेशक एवं पुलिस महानिरीक्षक को विशेष परिस्थितियों में निर्धारित शारीरिक मापदण्ड को शिथिल करने की शक्ति होगी ।

10. राज्य सरकार द्वारा प्रत्यार्पित उग्रवादी को रू0 5,00,000/- (पाॅच लाख) की जीवन बीमा करायी जायेगी एवं इसके लिए आवश्यक प्रीमियम का भुगतान किया जायेगा ।

11. प्रत्यार्पित उग्रवादी के आश्रितों के लिए भी (परिवार के अधिकतम पाॅच सदस्यों के लिए) रू0 1,00,000/- की समूह जीवन बीमा भी करायी जायेगी ।

12. प्रत्यार्पित उग्रवादी की संपत्ति को उग्रवादियों द्वारा क्षतिग्रस्त किये जाने की स्थिति में क्षति का आंकलन पुनर्वास समिति द्वारा कर क्षपतिपूर्ति की जायेगी ।

13. पनर्वास पैकेज को अंतिम रूप से गुह विभाग , झारखण्ड द्वारा अनुमोदित किया जायेगा।

14. यदि प्रत्यार्पणकत्र्ता कालांतर में पुनः उग्रवादी गतिविधि में संलिप्त हो जाता है तो पुनर्वास पैकेज के अंतर्गत भुगतेय सभी लाभ राज्य सरकार या बैंक (यदि ऋण का भुगतान नहीं किया गया हो) द्वारा स्वतः जप्त कर लिया जायेगा । यदि परोक्ष रूप से भी वे उग्रवादी गतिविधि में संलिप्त पाये जाते हैं तो सभी लाभ जप्त हो जायेंगे । परोक्ष रूप से उग्रवादी गतिविधि में संलिप्त होने या नहीं होने के विन्दु पर अंतिम निर्णय राज्य सरकार के स्तर से होगा ।

न्यायालय संबंधी मामले:-

15. प्रत्यार्पित उग्रवादी के विरूद्ध लंबित जघन्य आपराधिक मामलों को विधि के अनुसार निष्पादित किया जायेगा । अन्य अपराधों के लिए समर्पणकत्र्ता को प्ली बारगेनिंग का विकल्प रहेगा ।

16. प्रत्यार्पित उग्रवादी को अपना मुकदमा लड़ने के लिए सरकार की ओर से निःशुल्क वकील की व्यवस्था की जायेगी ।

17. न्यायिक प्रावधान के तहत आवश्यक शर्त पूरा करने की स्थिति में सरकार द्वारा राजसाक्षी बनाने/महिला एवं नाबालिग होने की स्थिति में प्रचलित विधि सम्मत कार्रवाई की जा सकती है ।

18. प्रत्यार्पित उग्रवादी द्वारा उग्रवादी गतिविधि में सम्मिलित होने के पीछे लंबित भू-विवाद का कारण होने की स्थिति में संबंधित भूमि विवाद मामलों का निपटारा प्राथमिकता के आधार पर उपलब्ध न्यायालय में कराया जायेगा ।

पुलिस अधीक्षक, गिरिडीह।


 Back to Top

Office Address: Jharkhand Police Headquarters, Dhurwa, Ranchi - 834004

Copyright © 2019 Jharkhand Police. All rights reserved.