लातेहार(07/01/2020):चार पुलिसकर्मियों की हत्या मे शामिल रविंद्र गंझू दस्ते के सात नक्सली लातेहार के चंदवा थाना क्षेत्र से गिरफ्तार

District: 
Date of Achievement: 
07/01/2020
Nature of Work: 
Achievement Against Cyber Crime

Recent Photograph of Police Events

सफलता।।
लातेहार के चंदवा थाना क्षेत्र के लुकूइया मोड़ पर 22 नवंबर को नक्सलियों ने चार पुलिसकर्मी को मौत के घाट उतारने वाले सात नक्सलियों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। 
गिरफ्तार हुए माओवादियों में बैजनाथ गंझू,कुवर गंझू,राजेश गंझू, सुनील गंझू, फगुआ गंझू, संजय गंझू और नरेश गंझू शामिल है। इनके पास से पांच लाख रुपया, पुलिसकर्मियों से लूटी हुई 40 गोली, आधार कार्ड, एटीएम, पासबुक, पांच मोबाईल फोन  सहित कई अन्य सामान बरामद किये गये है। डीआईजी अमोल वी होमकर ने सोमवार को बताया कि गिरफ्तार हुए सभी सातों  माओवादी संगठन सब जोनल कमांडर रविन्द्र गंझू के सहयोगी हैं। गिरफ्तार हुए सातों माओवादियों ने पुलिस के सामने स्वीकार किया कि घटना के बाद भाकपा माओवादी के सब जोनल कमांडर रविंद्र गंझू ने सबको पांच हजार रूपए दिए थे। डीआईजी ने बताया कि लातेहार में पुलिसकर्मियों पर हुए हमले की जांच में जुटी पुलिस टीम को गुप्त सूचना मिली थी कि   सब  जोनल कमांडर रविंद्र गंझू के तीन सहयोगी मोटरसाइकिल से चंदवा के ठेकेदार सोनू सिंह से पांच लाख रुपए लेवी लेकर आ रहे हैं। गुप्त सूचना के बाद पुलिस की टीम मोटरसाइकिल सवार को खोजने निकली। इसी दौरान टीम ने देखा कि सरोज नगर में स्थित शिव मंदिर के पास मोटरसाइकिल से तीन लोग आ रहे हैं। पुलिस ने जब उन्हें रूकने का इशारा किया तो वे भागने लगे।जिसके बाद पुलिस ने ओवरटेक कर उन्हें रोकने का प्रयास किया। पुलिस की गाड़ी को आगे आते देख सभी लोग बाइक खड़ी करके भागने लगे। उसी वक्त पुलिस ने सबको गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार हुए तीनों माओवादियों की निशानदेही पर पुलिस ने चार अन्य को भी गिरफ्तार किया। रविंद्र गंझू के गिरफ्तार सभी सहयोगियों से जब पुलिस ने पूछताछ की। तो उन सबने पुलिस को   बताया कि घटना के दिन रविंद्र गंझू के दस्ते के साथ छोटू खेरवार, मनीष, बलराम, विमल, मृत्युंजय, अमन, चंदन और नीरज सहित कई नक्सली मौके पर मौजूद थे। दस्ता के तीन सदस्य छुपकर पुलिस की आने जाने वाली गाड़ियों पर नजर रख रहे थे और रविंद्र गंझू अपने अन्य पांच हथियारबंद सदस्यों के साथ लुकाईया मोड़ के पास शॉल के अंदर हथियार छिपाकर बैठे थे।
बाकी दस्ते के अन्य सदस्य पुलिस के आने जाने वाले रास्ते में घात लगाकर बैठे थेण। जैसे ही 22 नवंबर की शाम के करीब आठ बजे पुलिस की पीसीआर वैन लुकाईया मोड़ पर रुकी और एक पुलिसकर्मी नीचे उतरा, इसी बीच घात लगाये माओवादियों ने पुलिस की गाड़ी पर अंधाधुंध फायरिंग कर दीण। जिसमें 4 जवान मौके पर ही शहीद हो गये। इसके बाद माओवादियों ने सभी  पुलिसकर्मियों के हथियार लूट लिये। डीआईजी ने एसपी प्रशांत आंनद और एएसपी विपुल पांडेय, बिरेन्द्र कुमार,रतिभान सिंह , अमीत कुमार गुप्ता सहित टीम में शामिल सभी को बधाई दी।

BACK

 Back to Top

Office Address: Jharkhand Police Headquarters, Dhurwa, Ranchi - 834004

Copyright © 2019 Jharkhand Police. All rights reserved.